Monday, September 9, 2013

bhajan

                     मोहन हमारे मधुबन में तुम आया न करो -तुम आया न करो ---------

                                           जादू भरी ये बांसुरी बजाया न करो -बजाया  न करो -------------

१. सूरत तुम्हारी देख कर सलोनी सांवली -सलोनी सांवली -२ 

                                                      सुन बांसुरी की तान मैं हो गयी बाँवरी -२ 

                                                               माखन चुराने वाले ,दिल चुराया न करो - चुराया न करो -----

                                   मोहन हमारे मधुबन में तुम आया न करो ----

२. माथे मुकुट गलमाल कटि में काछनी सोहे -काछनी सोहे -२ 

                                                     कानों में कुंडल झूमते मन को मेरे सोहे - मन को मेरे सोहे -२ 

                                                         इस चन्द्रमा के रूप से लुभाया न करो ----

                               मोहन हमारे मधुबन में तुम आया न करो … 

३. अपनी यशोदा मात की सौगंध है तुमको -सौगंध है तोहे -२ 

                                                     यमुना नदी के तीर पर तुम न मिलो हमको - तुम न मिलो हमको -२ 

                                                        इस बांसुरी की तान पे बिल्माया न करो ---

                                मोहन हमारे मधुबन में तुम आया न करो …… 

४. इसी तुम्हारी बांसुरी ने मोहनी डारी -मोहनी डारी  -२ 

                                                      चन्द्र सखी की विनती तुम सुन लो बनवारी -सुन लो बनवारी -२ 

                                                           दर्शन दिखा दो साँवरे अब देर न करो -अब देर न करो ----

                                  मोहन हमारे मधुबन में तुम आया न करो -------

  •  


Thursday, September 5, 2013

bhajan


                          हरी नाम का दीवाना  बन कर देखो ,कोई प्रेम का प्याला पी कर देखो …। 

 


         १. हुई दीवानी मीराबाई -हुई दीवानी मीराबाई 

                                           पाए कष्ट लाखों नहीं पछताई --२ 

              विष से बन गया अमृत देखो  -----। 

          २. शबरी के घर राम जी आये -शबरी के घर राम जी आये . 

                                          खाए बेर और बहुत सिहाये -२ 

                कहा लक्ष्मण से चख कर देखो -----। 

           ३ . इस भक्ति का नशा है छाया -इस भक्ति का नशा है छाया . 

                                           जो कोई पीये होए मतवाला -२ 

               इस भक्ति के रस पी के देखो …।                                  --

Tuesday, September 3, 2013

upasna

  1. पूजा के लिए स्थान पवित्र ,और स्वछ होना चाहिए . पूजा मूर्ति या चित्र के समक्ष करना चाहिए । 
  2. हनुमान जी को सरसों के तेल का दीपक जलाना चाहिए। 
  3. विष्णु जी को अक्षत नहीं चढाने चाहिये ।  
  4. गणेश जी को तुलसी पत्र नहीं चढ़ाना चाहिए । 
  5. दुर्गा जी को दूर्वा नहीं चढ़ानी चाहिए । 
  6. शंकर जी को मदार का पुष्प चढ़ाना चाहिए । 
  7. बेल पत्र खंडित नहीं होना चाहिए . 
  8. बेलपत्र ४० दिनों तक के पुराने भी चढ़ाएं जा सकते हैं । 
  9. कीड़ों के खाए हुए पुष्प नहीं चढाने चाहिए । 
  10. गणपति को दूर्वा और लाल पुष्प चढाने चाहिए ।