Thursday, September 5, 2013

bhajan


                          हरी नाम का दीवाना  बन कर देखो ,कोई प्रेम का प्याला पी कर देखो …। 

 


         १. हुई दीवानी मीराबाई -हुई दीवानी मीराबाई 

                                           पाए कष्ट लाखों नहीं पछताई --२ 

              विष से बन गया अमृत देखो  -----। 

          २. शबरी के घर राम जी आये -शबरी के घर राम जी आये . 

                                          खाए बेर और बहुत सिहाये -२ 

                कहा लक्ष्मण से चख कर देखो -----। 

           ३ . इस भक्ति का नशा है छाया -इस भक्ति का नशा है छाया . 

                                           जो कोई पीये होए मतवाला -२ 

               इस भक्ति के रस पी के देखो …।                                  --

2 comments:

  1. Acchi hai. Par ye itnihi line hai ke bas mukhde hai?

    ReplyDelete
  2. poora bhajan hai ,upar mukhda hai ..main koshish kar rahi hun bhajan ka audio bhi dalun....

    ReplyDelete