Monday, September 9, 2013

bhajan

                     मोहन हमारे मधुबन में तुम आया न करो -तुम आया न करो ---------

                                           जादू भरी ये बांसुरी बजाया न करो -बजाया  न करो -------------

१. सूरत तुम्हारी देख कर सलोनी सांवली -सलोनी सांवली -२ 

                                                      सुन बांसुरी की तान मैं हो गयी बाँवरी -२ 

                                                               माखन चुराने वाले ,दिल चुराया न करो - चुराया न करो -----

                                   मोहन हमारे मधुबन में तुम आया न करो ----

२. माथे मुकुट गलमाल कटि में काछनी सोहे -काछनी सोहे -२ 

                                                     कानों में कुंडल झूमते मन को मेरे सोहे - मन को मेरे सोहे -२ 

                                                         इस चन्द्रमा के रूप से लुभाया न करो ----

                               मोहन हमारे मधुबन में तुम आया न करो … 

३. अपनी यशोदा मात की सौगंध है तुमको -सौगंध है तोहे -२ 

                                                     यमुना नदी के तीर पर तुम न मिलो हमको - तुम न मिलो हमको -२ 

                                                        इस बांसुरी की तान पे बिल्माया न करो ---

                                मोहन हमारे मधुबन में तुम आया न करो …… 

४. इसी तुम्हारी बांसुरी ने मोहनी डारी -मोहनी डारी  -२ 

                                                      चन्द्र सखी की विनती तुम सुन लो बनवारी -सुन लो बनवारी -२ 

                                                           दर्शन दिखा दो साँवरे अब देर न करो -अब देर न करो ----

                                  मोहन हमारे मधुबन में तुम आया न करो -------

  •  


No comments:

Post a Comment