Tuesday, December 31, 2013

bhajan


</ div>

                                       कठिन प्यारे इस माले का जपना कठिन है --२ 

  १. मात-पिता और गुरु अपने की -मात-पिता और गुरु अपने की,

                   कठिन प्यारे इन तीनों की आज्ञा कठिन है,,,, कठिन प्यारे इस माले का जपना कठिन है ----

२. सास-ससुर और पति अपने की -सास ससुर और पति अपने की ,

                  कठिन प्यारे इन तीनों की सेवा कठिन है ,,,कठिन प्यारे इस माले का जपना कठिन है ------

३. गंगा -यमुना और त्रिवेणी ,गंगा-यमुना और त्रिवेणी ,

                  कठिन प्यारे इन तीनों का संगम कठिन है ,,,,कठिन प्यारे इस माले का जपना कठिन है --------

४. राम -लक्ष्मण और जानकी ,राम-लक्ष्मण और जानकी ,

                   कठिन प्यारे इन तीनों के दर्शन कठिन हैं ,,,,,कठिन प्यारे इस माले का जपना कठिन है -----

Sunday, December 29, 2013

bhajan


</div>

                     बेला अमृत गया,आलसी सो रहा बन अभागा ,साथी सारे जगे तू न जागा ॥

१. कर्म उत्तम से नर तन ये पाया,आलसी बन के हीरा गँवाया ,

                                         होवे उलटी मति ,करके अपनी छति ,विष में पागा ,साथी सारे जगे तू न जागा ॥ 

२. झोलियाँ भर रहे भाग वाले ,लाखों पतिको ने जीवन ,

                                       रंक राजा बने, भक्ति रस में पगे ,कष्ट भागा ,साथी सारे जगे तू न जागा ॥ 

३. धर्म -वेदों को न देखा भाला, बेला अमृत गया न सम्भाला ,

                                       सौदा घाटे का कर,हाथ माथे पे धर रोने लागा,साथी सारे जगे तू न जागा ॥ 

४. ब्रह्म -व्यापक न तूने विचारा ,सर से ऋषियों का ऋण न उतारा ,

                                       हंस का रूप था,गंदा पानी पिया बन के कागा ,साथी सारी जगे तू न जागा ॥   

Wednesday, December 18, 2013

bhajan

                                           आना पवन कुमार हमारे घर कीर्तन में ----------

१. आप भी आना संग राम जी को लाना ,

                    लाना जनक दुलारी हमारे घर कीर्तन मे --------आना पवन कुमार ---

२.  भारत जी को लक्ष्मण जी को ,

                  लाना राज दरबार ,हमारे घर कीर्तन में ---------आना पवन कुमार 

३. कृष्ण जी को लाना ,राधा जी को लाना ,

                 लाना सब परिवार, हमारे घर कीर्तन में ----------आना पवन कुमार 

४. शंकर जी को लाना ,नारद जी को लाना ,

               डमरू वीणा बजाना ,हमारे घर कीर्तन में ----------आना पवन कुमार

५. सुमति को लाना ,कुमति को हटाना ,

               करना बेडा पार ,हमारे घर कीर्तन में ------आना पवन कुमार 

६. आप भी आना , संग में भैरों जी को लाना ,

              लाना प्रेत राज सरकार, हमारे घर कीर्तन में --------------आना पवन कुमार 

७. हम भक्तों पर कृपा करके ,

            सुन लो नाथ पुकार, हमारे घर कीर्तन में --------आना पवन कुमार

Monday, December 9, 2013

bhajan




                             जीवन के आधार हमारे राधेश्याम ,भज लो बारम्बार हमारे राधेश्याम ,

 

१. चल के फिर ,के रोके-गाके ,दुःख में सुख में मन समझाकर ,

                                       कहो पुकार -पुकार हमारे राधेश्याम ॥ 

२. जय योगेश्वर ,कृष्ण मुरारी ,भक्ति भाव में लीलाधारी ,

                                      करते भव से पार ,हमारे राधेश्याम ॥ 

३. ह्रदय रमन करुणा के सागर, अनुपम अति  सुंदर नटवर नागर ,

                                      स्वयं प्रेम आगार ,हमारे राधेश्याम ॥ 

४. कुछ ही दिन का यह जीवन है ,प्रभु ध्यान ही सुखमय धन है ,

                                     पथिक मुक्ति दातार ,हमारे राधेश्याम ॥