Monday, December 9, 2013

bhajan




                             जीवन के आधार हमारे राधेश्याम ,भज लो बारम्बार हमारे राधेश्याम ,

 

१. चल के फिर ,के रोके-गाके ,दुःख में सुख में मन समझाकर ,

                                       कहो पुकार -पुकार हमारे राधेश्याम ॥ 

२. जय योगेश्वर ,कृष्ण मुरारी ,भक्ति भाव में लीलाधारी ,

                                      करते भव से पार ,हमारे राधेश्याम ॥ 

३. ह्रदय रमन करुणा के सागर, अनुपम अति  सुंदर नटवर नागर ,

                                      स्वयं प्रेम आगार ,हमारे राधेश्याम ॥ 

४. कुछ ही दिन का यह जीवन है ,प्रभु ध्यान ही सुखमय धन है ,

                                     पथिक मुक्ति दातार ,हमारे राधेश्याम ॥






No comments:

Post a Comment