Sunday, December 29, 2013

bhajan


</div>

                     बेला अमृत गया,आलसी सो रहा बन अभागा ,साथी सारे जगे तू न जागा ॥

१. कर्म उत्तम से नर तन ये पाया,आलसी बन के हीरा गँवाया ,

                                         होवे उलटी मति ,करके अपनी छति ,विष में पागा ,साथी सारे जगे तू न जागा ॥ 

२. झोलियाँ भर रहे भाग वाले ,लाखों पतिको ने जीवन ,

                                       रंक राजा बने, भक्ति रस में पगे ,कष्ट भागा ,साथी सारे जगे तू न जागा ॥ 

३. धर्म -वेदों को न देखा भाला, बेला अमृत गया न सम्भाला ,

                                       सौदा घाटे का कर,हाथ माथे पे धर रोने लागा,साथी सारे जगे तू न जागा ॥ 

४. ब्रह्म -व्यापक न तूने विचारा ,सर से ऋषियों का ऋण न उतारा ,

                                       हंस का रूप था,गंदा पानी पिया बन के कागा ,साथी सारी जगे तू न जागा ॥   

No comments:

Post a Comment