Thursday, May 22, 2014

भजन

                                                             भजन
हमें निज धर्म चलना सिखाती सिखाती रोज रामायण ,सदा शुभ आचरण करना  रामायण
१. जिन्हें संसार सागर से उतर कर पार जाना है ,
                                                      उन्हें सुख से किनारे पर लगाती रोज रामायण ,,,,हमें
२. कहीं छवि बिष्णु की बांकी ,कहीं शंकर की है झांकी
                                                        कहीं आनंद झूले पर झूलती रोज रामायण ---हमें
३. कभी वेदों के सागर में ,कभी गीता की गंगा में
                                                   कभी भक्ति सरोवर में डुबाती रोज रामायण ,,,हमें ----
४. सरल कविता के कुंजों में बना मंदिर है हिंदी का ,
                                                    पुजारी बिंदु से कविता मिलाती रोज रामायण ,हमें ------------

No comments:

Post a Comment