Tuesday, February 17, 2015

शिव भजन

अौघड़ वरदानी शिव जग विख्यात है ,झूठ नहीं बात है ये घूठ नहीं बात है -
--------------------------------------------------------------------------------

१. जंगल में घोर तप भस्मासुर ने किया,-
                                         होकर प्रसन्न उसे फौरन दर्शन दिया --
               कहा मांग वरदान कहे सकुचात है -झूठ नहीं बात है ये ----
२. भस्मासुर ने कहा जिसके सर कर धारण,
                                        फौरन हो जाये भस्म पूरी इच्छा करूँ,
           यही वर दीजे मुझे देखूं करामात है ,झूठ नहीं बात है ये-----
३. शिव ने वरदान दिया भस्मासुर खुश हुआ , 
                                        गिरिजा को देखकर मोहित असुर हुआ,
       शिव के साथ उसने किया शुरू उत्पात है ,झूठ नहीं बात है ये----
४. भागे ये भेद जान बाबा बम भोले नाथ,
                                     दौड़ा है भस्मासुर शिव के सर धरन हाथ ,
           आगे-आगे शिव पीछे पापी दौड़ा जात है ,झूठ नहीं बात है ये ---
५. शंकर की देख दशा दौड़ श्री सीतापति
                                      मार्ग में आये बन करके पार्वती ,
           कहा रुको कहाँ तुम दौड़े भागे जात  हो,झूठ नहीं बात है ये ----
६. पहले धरो शीश हाथ नाच करो मेरे साथ ,
                                    जैसे की नाचते है बाबा बम भोले नाथ ,
           चलने को तैयार मैं काहे घबरात है ,झूठ नहीं बात है ये -----
७ भस्मासुर ने जैसे ही सर कर धरा, 
                                 फौरन हो गया भस्म देर न लगी जरा ,
       चंचल प्रभु महिमा देख विश्व मुस्कुरात है,झूठ नहीं बात है ये ----