Tuesday, September 20, 2016

भजन


                                  गुरु पास रहे या दूर रहे नज़रों में समाये रहते हैं


 १. जीवन की घड़ियाँ छोटी हैं, दुनिया की मंजिल लंबी है -२
                              छोड़ो गुरु पर जिम्मेवारी, गुरु आप सम्हाले रहते है --
 २. सुख में भी आप नज़र आते, दुःख में भी धीरज बंधवाते-२
                               दुःख- सुख समझो एक सामान गुरु याद दिलाते रहते है
 ३. जिस अंश के हम सब प्राणी हैं उस अंध के है सारे प्राणी -२
                             माया में फंस कर भूल गए गुरु याद दिलाते रहते है ।। 

Wednesday, September 14, 2016

भजन


                             दो दिन का जग में मेला सब चला चली का ठेला
१. कोई चला गया कोई जाने, कोई गठरी बाँध सिंघाने -२
                                   कोई खड़ा तैयार अकेला-  सब चला चली का मेला-----
२. कर पाप कपट छल  माया,  धन लाख करोड़ कमाया -
                                   संग चले न एक अधेला - सब चला चली का मेला ----
३. सुत  नार मात  पिता भाई,  अंत सहायक नाहीं---२
                                   क्यों भरे पाप का थैला - सब चला चली का मेला ---
४. यह नश्वर सब संसारा, कर भजन ईस का प्यारा --
                                ब्रह्मानंद  कहें सुन चेला - सब चला चली का मेला 

भजन


                             दो दिन का जग में मेला सब चला चली का ठेला
१. कोई चला गया कोई जाने, कोई गठरी बाँध सिंघाने -२
                                   कोई खड़ा तैयार अकेला-  सब चला चली का मेला-----
२. कर पाप कपट छल  माया,  धन लाख करोड़ कमाया -
                                   संग चले न एक अधेला - सब चला चली का मेला ----
३. सुत  नार मात  पिता भाई,  अंत सहायक नाहीं---२
                                   क्यों भरे पाप का थैला - सब चला चली का मेला ---
४. यह नश्वर सब संसारा, कर भजन ईस का प्यारा --
                                ब्रह्मानंद  कहें सुन चेला - सब चला चली का मेला 

Monday, September 5, 2016

भजन


                   
                          ओ दुनिया वालों दमन फैला लो मेरी दुर्गे मैया चली आ रही हैं,
                          चली आ रही है, चली आ रही है पहाड़ों से मैया चली आ रही है।

१. दुष्टों को मारा मैया तुमने संहारा, दिया मान भक्तों को तुमने सहारा-२
                            भक्तों के संकट मिटाने वाली माँ अमृत बहाती चली आ रही है--

२. अंधे को नैना, कोढ़ी को काया, बाँझिन को पुत्र मैया निर्धन को माया-२
                         लूट लो जितना लूट ही जाये खजाना लुटाती चली आ रही है -

३.ऐ  शेरा वाली तेरा सहारा, तू जननी में हूँ बालक तुम्हारा -
                         शेरों की सवारी लगती है प्यारी झूमती  रही है ॥   

Thursday, September 1, 2016

भजन


         

                      बन के लिल्हारी राधा को छलने चले, वेष उनका बनाना गजब हो गया,
                      जुल्म ढाती थीं जो चोटियां श्याम की, मांग सेन्दुरा भराना गजब हो गया --


१. आसमान पर सितारे लरजने लगे, चाँद बदली में मुंह को छिपाने लगा,
                  चांदनी रात में बेखबर बाम पर, बेनकाब उनका आना गजब हो गया ---

२. बिछड़ी जिस दम मिली थी नज़र से नज़र, जान राधा गयीं छल किया आन कर,
                   बहुत शर्मिंदा थीं राधिका उस घड़ी, श्याम का मुस्कुराना गजब हो गया-

३. हाथ गालों पे जिस दम धरा श्याम ने, हाथ झलककर के राधा ये कहने लगीं,
                  सच बता दे अरे छलिया तू कौन है, तुमसे नज़रें मिलाना गजब हो गया-

४. तेरा प्रेमी हूँ अच्छी तरह जान ले, मैं हूँ छलिया किशन मुझको पहचान  ले,
                तेरी खातिर मैं राधा जनाना बना, प्रेम तुमसे बढ़ाना गजब हो गया ----