Wednesday, September 14, 2016

भजन


                             दो दिन का जग में मेला सब चला चली का ठेला
१. कोई चला गया कोई जाने, कोई गठरी बाँध सिंघाने -२
                                   कोई खड़ा तैयार अकेला-  सब चला चली का मेला-----
२. कर पाप कपट छल  माया,  धन लाख करोड़ कमाया -
                                   संग चले न एक अधेला - सब चला चली का मेला ----
३. सुत  नार मात  पिता भाई,  अंत सहायक नाहीं---२
                                   क्यों भरे पाप का थैला - सब चला चली का मेला ---
४. यह नश्वर सब संसारा, कर भजन ईस का प्यारा --
                                ब्रह्मानंद  कहें सुन चेला - सब चला चली का मेला 

1 comment: