Wednesday, December 14, 2016

भजन


                                             हो वंदना बारम्बार गुरुदेव आपके चरणों में,
                                             फिर कोटिन- कोटिन गुहार मेरी नमस्कार आपके चरणों में। 

१. प्रभु तुम्हरे आगे- पीछे को, और दाएं बाएं सकल दिशा, 
                                                 सुंदर चरणों में दंडवत  मेरी,  गुरुदेव आपके चरणों में । 

२. तुम्ह सकल ब्रम्हांड के नायक हो,  युग- युग में परमसहायक हो, 
                                                  जड़- चेतन जीव चराचर सब संसार आपके चरणों में । 

३. जब -जब भक्तों पर भीर पड़ी, पापों से दुखित हुई धरती, 
                                                  दुखी सुर नर मुनि जन की पहुंची जो पुकार आपके चरणों में। 

४. हर युग- युग भक्तों की रक्षा करी, नर रूप का धरी नयी भक्ति,
                                                  इस दास की भी भक्ति मुख को सरकार आपके चरणों में ।