Thursday, April 13, 2017

भजन







                                               बड़ा आनंद आता है, प्रभु का नाम लेने में 




१. इधर गंगा, उधर यमुना, बीच में त्रिवेणी आती है -२
                          बड़ा आनंद आता है त्रिवेणी में नहाने में -----

२. इधर चन्दा, उधर सूरज, बीच में तारे आते हैं -२
                          बड़ा आनंद आता है हमें तारे गिनने में ---------

३. इधर गीता, उधर भगवत, बीच में मानस आता है -२
                         बड़ा आनंद आता है हमेमिन मानस को पढ़ने में ---------

Tuesday, April 11, 2017

भजन







                                       चले श्याम सुन्दर से मिलने को भोला
                                       भस्म रमी अंग पड़ा,  काँधे पे झोला 


             १. महलों में जाकर अलख को जगाया, भीतर भर थाल मोतियों का आया -२
                                                                                मैया की भिक्षा ले लो तुम भोला -----

            २. न तो मैं मैया भिक्षा का हूँ आसी, मोहन के दर्शन को अँखियाँ हैं प्यासी -२
                                                                               दिखला दो दर्शन मगन होये चोला ---

         ३. मोहन के दर्शन जो भोला ने पाए,  देवोँ ने नभ से हैं पुष्प गिराए -२

                                                                            तुलसी कहे ये मिलन है अलबेला -----

भजन


     


                                   सखी री बांके बिहारी से लड़ गयी अँखियाँ
                                    बचाई थी बहुत लेकिन निगोड़ी लड़ गयी अँखियाँ 



१. न जाने क्या किया जादू ये तकती रह गयीं अँखियाँ -२
                 चमकती है बरछी सी कलेजे गड गयी अँखियाँ .....


२. चहुँ दिस  रस भरी चितवन मेरी आँखों में लाते हो -२
               कहो कैसे कहाँ जाऊँ ये पीछे पड़  गयी अँखियाँ  ......


३.  भले तन से निकले प्राण मगर ये छवि न निकलेगी -२
            अँधेरे मन के मंदिर मणि सी जड़ गयी अँखियाँ  ......