Thursday, April 13, 2017

भजन







                                               बड़ा आनंद आता है, प्रभु का नाम लेने में 




१. इधर गंगा, उधर यमुना, बीच में त्रिवेणी आती है -२
                          बड़ा आनंद आता है त्रिवेणी में नहाने में -----

२. इधर चन्दा, उधर सूरज, बीच में तारे आते हैं -२
                          बड़ा आनंद आता है हमें तारे गिनने में ---------

३. इधर गीता, उधर भगवत, बीच में मानस आता है -२
                         बड़ा आनंद आता है हमेमिन मानस को पढ़ने में ---------

No comments:

Post a Comment